क्या आप जानते एलआईसी की इस पालिसी में10 गुना रिटर्न मिलता हैं

एलआईसी ऑफ इंडिया

एलआईसी ऑफ इंडिया ने निवेशकों के लिए सबसे आक्रामक पॉलिसी लॉन्च की है, जिसमें आपको एक प्रीमियम चुकाने पर ही 10 गुना रिटर्न मिलेगा और इस वजह से निवेशक इसमें निवेश कर रहे हैं। आइए जानते हैं इस पॉलिसी के बारे में पूरी जानकारी-

एलआईसी ऑफ इंडिया: भारतीय जीवन बीमा निगम देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी है। यह समय-समय पर समाज के हर वर्ग के लिए अपनी बीमा पॉलिसी लेकर आता रहा है। हाल ही में एलआईसी ने एक नई बीमा पॉलिसी लॉन्च की है। इस पॉलिसी का नाम एलआईसी धन वर्षा योजना है। इस पॉलिसी की खास बात यह है कि यह इसमें जमा कुल प्रीमियम का 10 गुना तक रिटर्न देती है। इस पॉलिसी में निवेशक को सिर्फ एक बार प्रीमियम जमा करना होता है। ऐसे में बार-बार प्रीमियम जमा करने का झंझट नहीं है। साथ ही 10 गुना तक सम एश्योर्ड भी मिलता है।

LIC Scheme: एलआईसी की बेस्ट पॉलिसी, 4 प्रीमियम भरे और घर बैठे पाएं 1 करोड़ रूपए

एलआईसी धन वर्षा योजना क्या है?

आपको बता दें कि एलआईसी ऑफ इंडिया की धन वर्षा योजना गैर-भागीदारी, व्यक्तिगत, एकल प्रीमियम और बचत बीमा योजना है। एलआईसी की इस पॉलिसी को आप सिर्फ ऑफलाइन ही खरीद सकते हैं। यदि किसी पॉलिसी धारक की मैच्योरिटी से पहले मृत्यु हो जाती है तो उसके परिवार को डेथ बेनिफिट का लाभ मिल सकता है।

यह मृत्यु लाभ बीमित राशि का दोगुना है।मनी लाइन योजना में दो विकल्प उपलब्ध हैं आपको बता दें कि धन रेखा योजना में निवेश करने पर आपको 10 गुना तक रिटर्न मिल सकता है।

इसमें दो तरह के विकल्प होते हैं

पहला विकल्प- धन रेखा योजना के पहले विकल्प में आपको जमा प्रीमियम का 1.25 गुना तक रिटर्न मिलता है। ऐसे में अगर आप 10 लाख रुपये के सिंगल प्रीमियम का भुगतान करते हैं और उसके बाद किसी निवेशक की मैच्योरिटी से पूर्व ही मौत हो जाती है तो उसके परिवार को सम एश्योर्ड के तौर पर गारंटीड बोनस 12.5 लाख रुपये का मिल सकता है।

दूसरा विकल्प- दूसरी ओर धन रेखा योजना के दूसरे विकल्प में निवेशकों को 10 गुना तक का जोखिम कवर मिलता है। ऐसे में यदि किसी व्यक्ति की पॉलिसी ले लेने के बाद मौत हो जाती है तो ऐसी में उसे 10 गुना तक का रिटर्न मिलता है और 10 लाख रुपए का निवेश करने पर गारंटीड बोनस 1 करोड़ रुपए का मिलता है। ऐसे में आप अपनी जरूरत और जोखिम के हिसाब से कोई एक विकल्प चुन सकते हैं।

निर्धन व्यवसाईयों की आवाज बना एकता परिषद्