एक और सरकारी बैंक ने सस्ता किया होम लोन समेत सभी तरह के कर्ज

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने रेपो दर से जुड़ी कर्ज की ब्याज दर (आरएलएलआर) 0.15 प्रतिशत कम कर दी। यह अब 6.90 प्रतिशत रह गई है। बैंक ने एक विज्ञप्ति में कहा कि उसके खुदरा और सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग (एमएसएमई) ऋण आरएलएलआर से जुड़े हैं। नई दरें सात नवंबर से प्रभावी हो गईं हैं। इससे होम लोन समेत सभी तरह के कर्ज सस्ते हो गए हैं।

बैंक के कार्यकारी निदेशक हेमंत टमटा ने कहा, ” आरएलएलआर में कटौती हमारे आवास ऋण, कार ऋण, स्वर्ण ऋण, शिक्षा ऋण और व्यक्तिगत ऋण के साथ-साथ एमएसएमई ऋण को और अधिक आकर्षक एवं सस्ता बनाती है। इससे पहले त्यौहारी मौसम के चलते बैंक ने आवास, कार और स्वर्ण ऋण पर प्रक्रिया शुल्क में छूट दी थी। बैंक ऑफ महाराष्ट्र से पहले कई सरकारी बैंक हाल के दिनों में कर्ज सस्ता कर चुके हैं।

बैंक ऑफ बड़ौदा ने भी सस्ता किया है कर्ज

इससे पहले बैंक ऑफ बड़ौदा भी एक नवंबर से अपने आरएलएलआर में 0.15 प्रतिशत की कटौती कर 6.85 प्रतिशत कर चुका है। विशेषज्ञों का कहना है कि रेपो रेट से जुड़ने के बाद बैंकों की ब्याज दरें रिजर्व बैंक की रेपो दर में कटौती नहीं करने के बावजूद घट रही हैं। साथ ही इसका ज्यादा लाभ अब उपभोक्ताओं को मिलने लगा है। उनका कहना है कि पहले बैंक रिजर्व बैंक की कटौती का लाभ ग्राहकों को देने में काफी देर लगाते थे। उल्लेखनीय है कि पिछली दो मौद्रिक नीति समीक्षा में रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में कोई कटौती नहीं की है।

एसबीआई बैंक ने 42 करोड़ ग्राहकों को किया अलर्ट , भूलकर भी न करें ये काम